नियम और शर्तें
रोजगार एवं महानिदेशालय के इस आधिकारिक वेबसाइट; ट्रेनिंग (डीजीईटी) आम जनता के लिए जानकारी का प्रसार करने के लिए विकसित किया गया है। सभी प्रयासों को इस वेबसाइट पर सामग्री की सटीकता और शुद्धता सुनिश्चित करने के लिए बनाया गया है, एक ही कानून के एक बयान के रूप में लगाया या किसी भी कानूनी उद्देश्यों के लिए इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।

  • वेब सामग्री को रोजगार एवं महानिदेशालय से किसी पूर्व सूचना के बिना परिवर्तन के अधीन हैं; ट्रेनिंग (डीजीईटी) वेबसाइट।
  • कोई घटना में होगा रोजगार एवं महानिदेशालय; ट्रेनिंग (डीजीईटी) के बाहर या में उत्पन्न होने वाली, सहित किसी भी खर्च, नुकसान या क्षति के लिए उत्तरदायी बिना किसी सीमा के, अप्रत्यक्ष या परिणामी हानि या क्षति, या डेटा के किसी भी खर्च, नुकसान या क्षति के उपयोग से उत्पन्न होने वाली किसी भी प्रकार का, या उपयोग के नुकसान हो सकता है, इस वेबसाइट के उपयोग के संबंध। आदि अधिनियम, नियम, विनियम, नीति वक्तव्य के बारे में वेबसाइट पर उत्पादन किया और कहा कि प्रासंगिक अधिनियम में निहित किया गया है कि क्या दोनों के बीच किसी भी बदलाव के मामले में, नियम, विनियम, विभाग आदि के साथ नीति वक्तव्य में, बाद अभिभावी होगी।
  • इस वेबसाइट पर शामिल किया गया है कि अन्य वेबसाइटों के लिंक जनता की सुविधा के लिए ही प्रदान की जाती हैं। रोजगार एवं महानिदेशालय; ट्रेनिंग (डीजीईटी) सामग्री या सहबद्ध वेबसाइटों की विश्वसनीयता के लिए जिम्मेदार नहीं है और जरूरी नहीं कि उन्हें भीतर व्यक्त देखें समर्थन नहीं करता है। यह भी सब समय ऐसे सम्बद्ध पृष्ठों की उपलब्धता है कि इसकी गारंटी नहीं है।
  • इस वेबसाइट पर प्रदर्शित सामग्री का नि: शुल्क पुनरूत्पादन किया जा सकता है। हालांकि, सामग्री सही रूप में फिर से उत्पादित किया जा करने के लिए और एक अपमानजनक ढंग से या गुमराह करने के संदर्भ में इस्तेमाल किया जा करने के लिए नहीं है। सामग्री प्रकाशित या दूसरों को जारी किया जा रहा है, जहाँ कहीं भी स्रोत प्रमुखता से स्वीकार किया जाना चाहिए। हालांकि, इस सामग्री को पुन: पेश करने की अनुमति तृतीय पक्ष की कॉपी राइट होने के रूप में पहचान की है जो किसी भी सामग्री के लिए नहीं दी। ऐसी सामग्री का पुनरूत्पादन करने का अधिकार संबंधित विभाग / कॉपीराइट धारक से प्राप्त किया जाना चाहिए।
  • इन नियमों और शर्तों के द्वारा शासित है और भारतीय कानूनों के अनुसार में लगाया जाएगा। इन नियमों और शर्तों के तहत उत्पन्न होने वाले किसी भी विवाद भारत के न्यायालयों के अनन्य क्षेत्राधिकार के अधीन होगा।